रेल्वे स्टेशन पर 28 साल पुराने एफओबी के जर्जर होने की शिकायत पर अधिकारियो ने बरती लापरवाही

0
14

-मुसाफिरो के चढते समय ब्रिज का हिस्सा गिरने से सात घायल, महिलाऐ बच्चे भी शामिल
-रेल्वे अधिकारियो की लापरवाही आई सामने, जांच के बाद गाज गिरना तय
भोपाल। राजधानी के पुराने रेलवे स्टेशन पर गुरुवार सुबह उस समय जब यहॉ ट्रैन मे सवार होने जा रहे यात्रियो पर फुटओवर ब्रिज के रैंप का एक हिस्सा अचानक ढह कर गिर गया। बताया गया है कि हादसे में 7 लोग घायल हुए है, जिनमें से 3 की हालत गंभीर है। घायलो मे शामिल लोगो मे हमीदिया सहित चिरायू ओर रेल्वे अस्पताल मे भर्ती कराया गया है। घटना के बाद रेल अधिकारियो मे भी अफरातफरी मच गई ओर तत्काल ही मोके पर अफसर पहुंच गये, जिन्होने तत्काल ही ब्रिज को आवागमन के लिये बंद कराते हुए उसे पूरी तरह गिराने के निर्देश दिये, इसके साथ ही प्लेटफार्म नंबर 2 से दो ट्रेनों को डायवर्ट कर दिया है। हादसे मे एक ही परिवार के 5 लोग घायल हुए है। पूरी घटना मे रेल्वे की लापरवाही भी सामने आई है, जानकारी के अनुसर जिस ब्रिज का हिस्सा गिरने से हादसा हुआ है, उसे क्षतिग्रस्त होने की शिकायत की गई थी, लेकिन इसपर अधिकारियो ने कोई ध्यान नही दिया। वही घटना की जांच के बाद जिम्मेदार अफसरो पर गाज गिरना तय माना जा रहा है।

घटना को लेकर सीएम कमलनाथ ने दुख जताते हुए घायलो को सहायता राशि दिये जाने सहित उनके इलाज के भी निर्देश दिये है। जानकारी के अनुसार जिस रैंप का हिस्सा गिरा है, वह 1992 में बना था। जानकारी के मुताबिक, हादसा 2-3 नंबर प्लेटफॉर्म पर उस समय हुआ, जब तिरुपति निजामुद्दीन एक्सप्रेस खड़ी हुई थी, वही फुटओवर ब्रिज के नीचे कुछ स्टॉल भी लगे हुए थे। जब यहॉ मौजूद यात्री अपना सामान लेकर एफओबी के जीने से ऊपर चढ़ रहे थे, तभी रैंप हिस्सा टूटकर नीचे गिरा, जिससे तेज धमाके की आवाज हुई, इस दौरान जितने मुसाफिर थे, वह नीचे गिर पड़े। अचानक हुए इस हादसे से यहॉ हडकंप मच गया ओर स्टेशन पर एकदम भगदड़ मच गई। घटना की सूचना मिलते ही रेलवे पुलिस मौके पर पहुंची और मलबे मे दबे यात्रियों को जैसै तैसै बाहर निकाला। इसके बाद घायलो को अस्पताल भेजने के लिये एंबूलैस को फोन किया गया लेकिन उसमे देरी होने के चलते कई लोग अपने घायल परिवार वालो को लेकर निजी वाहनो से इलाज के लिये निजी हॉस्पिटल ले गये जहॉ उनका उपचार जारी है। घायलो की पहचान नाहिद जहॉ पति अजहर खान (40) वर्ष निवासी आरिफ नगर थाना निशानतपुरा भोपाल, शमीम उर्फ रहमान पिता अजीजउर रहमान (40) निवासी जेल रोड भोपाल, अयाज खान पिता अजहर (18) निवासी आरिफ नगर भोपाल, खालिद बेग पिता अजहर (42) निवासी मंगलवारा छावनी, जलील रहमान पिता अजीज (40) निवासी जेल रोड भोपाल, अनुपम शर्मा पिता जगदीश (31) निवासी अरिहंत विहार विदिशा ओर मरियम पति एजादुर रहमान (20) निवासी अहीर मोहल्ला भोपाल के रुप मे हुई है। वही मिली जानकारी के मुताबिक हादसे में जहांगीराबाद में रहने वाले एक ही परिवार के 5 लोग घायल हुए हैं। घायल परिवार के लोगो का निजी अस्पताल मे इलाज जारी है, परिवार वालो का कहना है, इस हादसे में मरियम गंभीर हैं। वहीं नाहिद, शमीम, खलील और दो बच्चे अमान-अयाज घायल हो गए हैं। अयाज और नाजिया मां बेटे हैं। वही घटना के थोडी देर बाद ही रेलवे कर्मचारियों ने घटना स्थल से मलबा हटा दिया ओर प्लेटफार्म नंबर 2 से दो ट्रेनों को डायवर्ट किया गया है। घटना में रेलवे की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। हादसे के बाद मौके पर मौजूद स्टेशन पर कैंटीन चलाने वाले रमेश का कहना है कि उसने स्टेशन मास्टर से रैंप और ब्रिज के कमजोर होने और उसका हुक निकल जाने की जानकारी दी थी। लेकिन रेलवे ने शिकायत को अनसुना कर दिया। हालांकि रेलवे अधिकारी ने इस बात से इंकार किया है कि उन्हें रैंप जर्जर होने की जानकारी दी गई थी, उन्होंने बताया कि अगर जानकारी मिलती तो इसकी जांच कराई जाती। हादसे की सूचना मिलते ही स्टेशन पहुंचे जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि रेल मंत्री पीयूष गोयल को कमलनाथ जी पत्र लिखेंगे कि भोपाल रेलवे स्टेशन समेत सभी स्टेशनों के एफओबी की जांच कराई जाए। उन्होंने बताया कि सरकार ने गंभीर घायलों को 50 हजार और चोटिलों को 10 हजार की मदद देगी। हादसे को लेकर कांग्रेस के सीनीयर लीडर दिग्विजय सिंह, पूर्व सीएम शिवराज सिहं चौहान ने भी हादसे को लेकर दुख जताते हुए उचित मुआवजा दिये जाने के साथ ही घटना की जांच कराते हुए लापरवाही बरतने वालो पर कार्यवाही की मांग की है। वही हादसे के बाद रेल एडीजी अरुणा मोहन राव ने कहा कि मुझे हादसे की जानकारी देते हुए बताया गया है, कि ये रैंप 1992 में बना था। उनरका कहना है कि अधिक समय होने से कमजोर हो गया होगा। इसकी सुरक्षा के प्रोटोकॉल क्या हैं, हम इसकी जानकारी ले रहे हैं, ओर इसमें कानूनी कार्रवाई होगी, ओर स्टेशन के जर्जर हालत में पहुंचे ओवरब्रिज और रैंप की जांच और परीक्षण तकनीकी टीम से कराएंगे, जांच के बाद लापरवाही बरतने वाले अधिकारियो के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी। वही सुत्रो के अनुसार शुरुआती जांच के दौरान प्लेटफार्म हादसे में स्टेशन डायरेक्टर, डीआरएम, और सीनियर डीईएन की लापरवाही सामने आ रही है। रेल अधिकारियों के अनुसार हादसे को लेकर जांच की जा रही है। किसी भी प्रकार की लापरवाही करने वाले अधिकारी कर्मचारी पर कार्रवाई होगी।

LEAVE A REPLY