सीता अष्टमी 16 को , इस प्रकार पूजा करें

0
37

सनातन धर्म में व्रत और पूजन का विशेष महत्व है। सीता अष्टमी 16 फरवरी रविवार को है। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को माता सीता धरती पर अवतरित हुए थी। इस‍ीलिए इस दिन सीता अष्टमी का पर्व मनाया जाता है। इसे जानकी जयंती के नाम से भी जाना जाता है। माता सीता का विवाह मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के साथ हुआ था। माता सीता एक आदर्श पत्नी मानी जाती है। सीता अष्टमी पर्व इस प्रकार मनाया जाता है। सुबह नित्य कर्मों से निवृत्त होकर स्नान के प‍श्चात माता सीता तथा भगवान श्रीराम की पूजा करें।
उनकी प्रतिमा पर श्रृंगार का सामग्री चढ़ाएं।
दूध-गुड़ से बने व्यंजन बनाएं और दान करें।
शाम को पूजा करने के बाद इसी व्यंजन से व्रत खोलें।
वहीं सिंधु पुराण के अनुसार फाल्गुन कृष्ण अष्टमी के दिन प्रभु श्रीराम की पत्नी जनकनंदिनी प्रकट हुई थीं। इसीलिए इस तिथि को सीता अष्टमी के नाम से जाना जाना जाता है। महाराज जनक की पुत्री विवाह पूर्व महाशक्ति स्वरूपा थी। विवाह पश्चात वे राजा दशरथ की संस्कारी बहू और वनवास के दौरान प्रभु श्रीराम के कर्तव्यों का पूरी तरह पालन किया। अपने दोनों पुत्रों लव-कुश को वाल्मीकि के आश्रम में अच्छे संस्कार देकर उन्हें तेजस्वी बनाया। इसीलिए माता सीता भगवान श्रीराम की श्री शक्ति है।
सीता अष्टमी का व्रत सुहागिन महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण व्रत है। शादी योग्य युवतियां भी यह व्रत कर सकती है, जिससे वह एक आदर्श पत्नी बन सकें। यह व्रत एक आदर्श पत्नी और सीता जैसे गुण हमें भी प्राप्त हो इसी भाव के साथ रखा जाता है। अष्टमी का व्रत रखकर सुखद दांपत्य जीवन की कामना की जाती है।

LEAVE A REPLY