सिंधिया ने शाही अंदाज में मनाया दशहरा, शमी पूजन के बाद लहराई तलवार

0
21

ग्वालियर ।अजयभारत न्यूज
पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सिंधिया राजपरिवार के बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने परंपरा के अनुसार दशहरा पर्व पर मांढरे माता के मंदिर की पूजा की। मंदिर में स्थित शमी के वृक्ष की पूजा भी परंपरागत तरीके से राजसी पोशाक में की गई।
सिंधिया परिवार के राज पुरोहितों ने विधि-विधान के साथ वृक्ष का पूजन कराया। उसके बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शमी के वृक्ष पर तलवार चलाकर उसकी पत्तियों को गिराया। सिंधिया राजपरिवार के सरदारों और वंशजों ने पत्तियों को लूटा। इसके पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने पुत्र महाआर्यमन के साथ गोरखी स्थित देवघर पहुंचे। जहां पर उन्होंने राजसी चिन्हों का भी पूजन किया।
मान्यता है, कि महाभारत युद्ध से पहले पांडवों ने शमी वृक्ष के ऊपर अपने हथियार छुपाए थे । उसके बाद इन्हीं हथियारों से कौरवों का वध किया था। इस पेड़ के पत्तों को सोना पत्ती भी कहा जाता है। पूजन के पश्चात इसकी पत्तियों को एक-दूसरे को बांटने की मान्यता है। यह भी मान्यता है कि शमी वृक्ष का पूजन करने से धन, वैभव, सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है । राजा और प्रजा की खुशहाली इससे बनी रहती है।
राज घराने की शमी पूजा है खास
दशहरे पर शमी पूजा के आयोजन के पीछे सिंधिया राजवंश के परिवार की कहानी है कि जब देश में अंग्रेजों का शासन था, उस दौरान दशहरे के मौके पर महल में ब्रिटिश रेसिडेंट आता था और इसके नेतृत्व में पास ही स्थित पहाड़ी पर 101 तोपों की सलामी दी जाती थी, जिसके बाद पूजा पूरी होती थी. हालांकि, आजादी के बाद ये परंपरा तो खत्म हो गई, लेकिन सिंधिया राज परिवार इस परंपरागत और शाही अंदाज में दशहरा मनाता चला आ रहा है. राज परिवार के दशहरे की ये लगभग 400 साल पुरानी परंपरा है।
भगवान राम के मर्यादित आचरण का अनुशरण करें: प्रद्युम्र सिंह तोमर
अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा का दशहरा मिलन , शमी एवं शस्त्र पूजन कार्यक्रम संपन्न
ग्वालियर। मध्यप्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्र सिंह तोमर ने कहा है कि भगवान श्रीराम के मर्यादित आचरण का सभी को अनुशरण करें ,तभी समाज की अगली पीढी सुरक्षित एवं सभ्य बना सकेंगे। उन्होंने कहा कि आज हम शक्तिशाली अत्याचारियों का सम्मान करते हैं लेकिन गरीब समाज सेवी की उपेक्षा करते हैं।
मंत्री प्रद्युम्र सिंह तोमर आज यहां अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के दशहरा पर्व पर आयोजित शस्त्र पूजन समारोह में महाराणा प्रताप भवन शताब्दीपुरम में उपस्थित क्षत्रिय समाज के लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होने कहा कि खाद्य सुुरक्षा में मिलावट एक बडा मुददा है, उन्होंने समाज के लोगों से आवहान किया कि आज शुद्ध के लिए युद्ध करना चाहिये। उन्होंने प्रशिक्षण के लिये आने वाले समाज के लोगों के लिए एक लाख रूपये देने की घोषणा की। इस मौके पर जगदीश सिंह तोमर साहित्यकार ने भी अपने विचार व्यक्त किये। उन्होने महाकवि सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की राम की शक्ति साधना का उल्लेख करते हुए क्षत्रियों से फिर शक्ति की साधना कर विजय प्राप्त करने का आवहान किया। उन्होंने (दाहिर सिंध ) से लेकर महाराणा प्रताप तक की संघर्षशीलता का उदाहरण देकर प्रतिकार की शक्ति की महत्ता प्रतिपादित की। उन्होने कहा कि हमें तन से ही मन से भी ताकतवर होना चाहिये। इस अवसर पर अध्यक्षता कर रहे अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री इंजीनियर राजेन्द्र सिंह भदौरिया ने समाज के कार्यों के लिए दान दाताओं का स्मरण कर दानवीरों का महत्व बताया। उन्होने कौरव और पांडवों और उनके संघर्ष में भीष्मपितामह की भूमिका पर प्रश्र उठाते हुए क्षत्रियों की मौके पर मौन रहने की आलोचना की।
इस मौके पर क्षत्रिय महासभा के संभागीय मंत्री रविन्द्र सिंह कुशवाह, जिलाध्यक्ष रघुराज सिंह तोमर, प्रदेश अध्यक्ष बृजपाल सिंह तोमर, विनय चौहान, नरेन्द्र सिंह तोमर, इंजीनियर मोहर सिंह जादौन, नरेन्द्र सिंह धाकरे, प्रेमसिंह भदौरिया, संभागीय अध्यक्ष भारत सिंह भदौरिया, पार्षद बलवीर सिंह तोमर, सोबरन सिंह तोमर , पार्षद जगराम सिंह कुशवाह , अजय सिंह राठौर, सौरभ सिंह जादौन आदि मौजूद रहे।
विजयादशमी पर निगम के वाहनों का हुआ पूजन
ग्वालियर।विजयादशमी के पावन पर्व पर नोडल आॅफीसर फायर केशव सिंह चैहान ने मंगलवार को सुबह फायर बिग्रेड मुख्यालय पर फायर बिग्रेड के वाहनों का पूजन किया। दशहरा पर्व पर वाहनों एवं मशीनरी यंत्रों के पूजन की विशेष महत्ता को देखते हुये आज सुबह नगर निगम के सभी वाहनों का पूजन किया गया। नोडल अधिकारी फायर बिग्रेड सहित निगम के अधिकारी कर्मचारी एवं वाहन चालक उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY