दुर्गा-गणेश पंडालों में दिखेंगे बेटी बचाने वाले संदेश, भक्तों को मिलेगा पोषण प्रसाद

0
11

ग्वालियर ।अजयभारत न्यूज
शिक्षा के प्रति बढ़ावा देने, शिशु लिंगानुपात में बढ़ोत्तरी और लड़कियों के प्रति परिवार और समाज में सम्मान की भावना विकसित करने के लिए, महिला एवं बाल विकास विभाग शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में गणेश-दुर्गा उत्सव के दौरान लगने वाले पडालों में लड़कियों के प्रति सकारात्मक सोच विकसित करने वाले संदेशों के साथ ही बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के संदेश झांकियों में प्रसारित करने के लिए कहा जाएगा, साथ ही आंगनबाड़ी केंद्रों के जरिए पंडालों में पोषण आहार दिया जाएगा।जिसका नाम पोषण प्रसाद होगा।
दुर्गा-गणेश पंडालों में दिखेंगे बेटी बचाने वाले संदेश शहर के प्रत्येक पंडाल आयोजकों की सूची थाना स्तर पर अपडेट होती है, इसी सूची में उल्लिखित मुख्य आयोजकों के उत्सव संचालन के लिए बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुप में बालिका शिक्षा और बालिका सम्मान के संदेश भी प्रसारित करने के निर्देश दिए जाएंगे, थाना स्तर से सभी आयोजकों के संदेश प्रसारित करने के लिए निर्देश दिए जाएंगे।
शहर और जिले के हजारों पंडालों के जरिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश आसानी से हर व्यक्ति तक पहुंच सकेगा, साथ ही सामाजशास्त्र जैसे विषयों में डिग्री कर रहे स्नातक और परास्नातक छात्र-छात्राओं से सामाजिक सर्वे भी कराया जाएगा, जिससे मिले फीडबैक के आधार पर बालिका शिक्षा और शिशु लिंगानुपात के लिए प्रभावी कार्य योजना लागू करने के लिए पूरा एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा।

चलित जलाशयों से श्रीगणेश की प्रतिमाओं का होगा विसर्जन
ग्वालियर ग्वालियर में श्रीगणेश प्रतिमाओं का विसर्जन चलित जलाशयों के माध्यम से किया जायेगा। प्रतिवर्ष की भाँति इस वर्ष भी जिला प्रशासन, नगर निगम और वरिष्ठ नागरिक सेवा संस्थान के माध्यम से चलित जलाशयों में श्रीगणेश की प्रतिमाओं का विसर्जन किया जायेगा। चलित जलाशयों का शुभारंभ 9 सितम्बर को प्रात: 9 बजे कलेक्टर अनुराग चौधरी के निवास स्थान गांधी रोड़ से किया जायेगा।
प्रदूषण नियंत्रण के उद्देश्य से ग्वालियर में चलित जलाशयों की शुरूआत की गई है। इसी कड़ी में इस वर्ष भी 40 नई गाड़ियों में नई टंकियों को रखकर गंगाजल युक्त पानी में श्रीगणेश की प्रतिमाओं का विसर्जन किया जायेगा। ग्वालियर शहर के पाँच स्थानों पर यह वाहन उपलब्ध रहेंगे। जिनमें फूलबाग चौराहा, इंदरगंज, महाराज बाड़ा, बारादरी मुरार एवं किलागेट शामिल है। इसके साथ ही वीर सावरकर सरोवर (कटोराताल) पर भी श्रीगणेश की प्रतिमाएं एकत्र कर चलित जलाशयों में विसर्जन करने का कार्य किया जायेगा। जिला प्रशासन की ओर से शहरवासियों से अपील की गई है कि श्रीगणेश प्रतिमाओं का विसर्जन चलित जलाशयों के माध्यम से करें। चलित जलाशय शहर के विभिन्न क्षेत्रों में भ्रमण कर चलित जलाशयों के माध्यम से विसर्जन कराया जायेगा। सभी चलित जलाशयों में विसर्जन के पश्चात ट्रिपल आईटीएम के समीप एक स्थान पर श्रृद्धापूर्वक प्रतिमाओं का विसर्जन किया जायेगा।

LEAVE A REPLY