पत्र दिवस 31 को …पत्र परंपरा बचाने के लिए जारी एक मुहिम

0
70

पत्र दिवस पर “चिठिया हो तो हर कोई बांचे” आयोजन कल होगा
ग्वालियर ।अजयभारत न्यूज
लुप्त होती जा रही चिट्ठी परंपरा को बचाने के लिए जारी मुहीम का तहत पत्र दिवस के मौके पर “चिठिया हो तो हर कोई बांचे” का आयोजन काल 31 जुलाई को होगा । जीवाजी क्लब में आयोजित होने वाले इस आयोजन में वक्ता के रूप में राज्यसभा टीवी के संपादक अरविंद कुमार सिंह ,प्रख्यात शायर मदन मोहन दानिश होंगे । इनके अलावा राजनीति,साहित्य और समाजसेवा से जुड़े अनेक लोग शिरकत करेंगे । आयोजन ग्रामीण पत्रकारिता विकास संस्थान द्वारा आयोजित किया जा रहा है ।
कार्यक्रम के संयोजक पत्रकार तेजपाल सिंह राठौड़ और पदम सिंह सेंगर के अनुसार पत्र सिर्फ सम्प्रेषण या सूचनाओं के आदान प्रदान करने का जरिया नही होते बल्कि वे संवेदना ,निजता ,भावुकता और सूचनाओं को जीवंतता प्रदान करने का एक जरिया भी होते है । तकनीकी ने हमे सम्प्रेषण के फटाफट संस्करण उपलब्ध कराए । ईमेल,एसएमएस और वॉटशेप आदि के आने के बाद पत्र भी मशीनीकृत हो गए । उंससे भावनाएं गायब हो गईं ,मानो रोबोट ने रोबोट को कुछ बोला ।

शरद श्रीवास्तव का प्रयास रंग लाने लगा
sharad shrivastavaइस प्राचीन विधा को लेकर चिंतित एक युवा ने कुछ करने की सोची । नाम है शरद श्रीवास्तव । बात 2008 की है । तब वे जामिया मिलिया इस्लामिया विवि में पत्रकारिता पढ़ रहे थे । उन्होंने पत्र बचाने के लिए तमाम लोगों को पत्र लिखे और लेख भी अखबारों को छपने भेजे । कुछ ने छापे कुछ ने नहीं । मैं अकेला ही चला था जानिबे मंजिल मगर/ लोग आते गए और कारवां बनता गया । इसमें भी यही हुआ । उन्होंने तय किया 31 जुलाई को पत्र दिवस मनाया जाए ।31 जुलाई तारीख तय करने के पीछे शरद जी के मन मे दो बातें थी । एक तो यह कि दुनिया मे पहली चिट्ठी 31 जुलाई को ही ब्रिटेन में पोस्ट की गई थी । और दूसरी , देश के सबसे देशज कथाकार मुंशी प्रेम चंद की जयंती भी 31 जुलाई को ही है ।

ग्रामीण पत्रकारिता विकास संस्थान का प्रति वर्ष आयोजन
पत्र दिवस पर चिट्ठी की लगातार होती गुमशुदगी की चिंता खरामा – खरामा शहर दर शहर आगे बढ़ने लगी । अभियान ने पांच वर्ष पहले वृहद और व्यवस्थित रूप लिया जब देश मे देशज पत्रकारिता के उत्थान के लिए कार्यरत संस्था ग्रामीण पत्रकारिता विकास संस्थान इससे जुड़ी । संस्थान के अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार देव श्रीमाली ने हर साल एक बड़ा आयोजन ” चिठिया हो तो हर कोई बांचे” नाम से शुरू किया । इसके तहत एक बड़ी गोष्ठी शुरू की गई । इसमें विभिन्न दलों केनेता,पत्रकार,साहित्यकार,समाजसेवी ही नही छात्र छात्राओं की भी सहभगिता रखी जाती है । इसमें अनेक मंत्री भी शिरकत कर चुके है । ग्वालियर में होने वाले इस आयोजन में पत्र लेखकों को सम्मानित भी किया जाता है और हर आगंतुक अपने प्रियजन के लिए एक पोस्ट कार्ड भी लिखता है ।

31को आएं जीवाजी क्लब में
इस वर्ष यह आयोजन जीवाजी क्लब में आयोजित होगा । इसमें अतिथि के रूप में सांसद नारायण कृष्ण शेजवलकर और मप्र एपेक्स बैंक के प्रशासक अशोक सिंह मौजूद रहेंगे । मुख्य वक्ता के रूप में पत्र परंपरा पर अनेक किताबे लिखने और डॉक्यूमेंट्री बनाने वाले राज्यसभा टीवी के संसदीय संपादक अरविंद कुमार सिंह और देश के जाने – शायर मदन मोहन दानिश शिरकत करेंगे । अतिथियों में सांसद विवेक शेजवलकर,एपेक्स के नव नियुक्त प्रशासक अशोक सिंह विधायक प्रवीण पाठक और संजीव सिंह कुशवाह ,राज चड्ढा,राजहंस सेठ,रविन्द्र झारखरिया ,प्रमोद भार्गव ,अमित जैन इनके अलावा अनेक वुद्धिजीवी,पत्रकार,लेखक और समाजसेवी मौजूद रहकर पत्र से जुड़े अपने संस्मरण सुनाएंगे और शरद श्रीवास्तव का सम्मान भी किया जाएगा ।

LEAVE A REPLY