शेम्पू और यूरिया से दूध बनाकर ग्वालियर में करते थे सप्लाई, एसटीएफ की 20 टीमों ने की छापामार कार्यवाही में मिला नकली दूध

0
16

ग्वालियर। नकली दूध से फैल रहें कैंसर से जनता को बचाने के लिये डीजीपी वीरेन्द्र कुमार के निर्देश पर एसटीएफ अमित सिंह के मार्गदर्शन में स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने भिंड और मुरैना में नकली दूध और मावा बनाने वाले डेयरी संचालकों पर स्थानीय प्रशासन के साथ मिल कर कार्यवाही की। टास्क फोर्स को डेयरी में हजारों लीटर सिंथेटिक दूध और केमिकल से बना मावा मिला है। इस मामले में कुछ लोगों की गिरफ्तारी भी हुई है।
एसटीएफ 20 टीमें बनाकर भिंड-मुरैना में कार्रवाई की
एसटीएफ को खबर मिल रही थी कि भिंड और मुरैना में लंबे समय से नकली दूध और उसे बने पदार्थो को बनाकर ग्वालियर और आसपास सप्लाई किया जाता है। इस सूचना पर एसपी एसटीएफ अमित सिंह ने आज 20 टीमें बनाकर शुक्रवार की सुबह भिंड और मुरैना में कार्रवाई के लिए रवाना की इसके पहले उन्होंने भिंड व मुरैना पुलिस समेत खाद्य विभाग से भी स्टाफ लिया। कार्रवाई के पहले किसी को जानकारी नहीं दी गई थी इसके बाद एसटीएफ ने एक साथ अलग-अलग ठिकानों पर रेड की। यहां पुलिस का डेयरी में नकली दूध बनते देख माथा ठनका। यहां केमिकल की मदद से नकली दूध बनाया जा रहा था। पुलिस को अम्बाह में वनखंडेश्वर डेयरी में लगभग 15 हजार लीटर नकली दूध मिला है साथ ही नकली मावा भी बरामद हुआ है। वहीं लहार दतिया रोड पर गोपाल कोल्ड स्टोरेज पर 2 हजार लीटर के 3 कंटेनर नकली दूध के भरे मिली है। एसटीएम की टीमें खाद्य विभाग के साथ सैम्पल भी ले रही है। अभी मुरैना और भिंड में कार्रवाई जारी है।
शैम्पू-यूरिया का इस्तेमाल करके दूध बना रहे थे
प्राथमिक पड़ताल में एसटीएफ को भिंड और मुरैना की डेयरी से केमिकल व शॅम्पू मिले है। ऐसा बताया गया है कि नकली दूध बनाने वाले शैम्पू और यूरिया का इस्तेमाल करके दूध बना रहे थे इसके अलावा मावा बनाने के लिए भी घातक केमिकल का इस्तेमाल किया जा रहा था।नकली दूध बनाने वालों को दबोचने में एसटीएफ की टीम में इंस्पेक्टर चेतनसिंह बैस, एएसआई शाकिर अली खान, आरक्षक प्रमोद कुमार, आरक्षक ऋषि गुर्जर, अमित, रवि और महिला आरक्षक मोना आदि कामयाबी मिली ।

LEAVE A REPLY