CRIME : फ्लैट रखा था गिरवीं , फिर भी उसे बेच डाला

0
9

ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
सेना से सेवा निवृ जवान ने पॉश इलाके में एक फ्लैट खरीदा । वह फ्लैट में शिफ्ट हुआ ही था कि तभी बैंक का नोटिस उसे मिला कि आपने बैंक ऋण की किश्त नहीं चुकाई है और आपका फ्लैट नीलाम किया जाता है। घटना पडाव थाना क्षेत्र के गांधी नगर की बताई जा रही है। उधर घबराया सेना का जवान तत्काल थाने पहुंचा और बिल्डर के खिलाफ मामला दर्ज करवाया। पता चला है कि जिसने मल्टी बनाई उसने बैंक से मिलकर करोडों का लोन निकाला है।
पडाव पुलिस के अनुसार बिरला नगर निवासी बृजेन्द्र भदौरिया सेना से सेवा निवृत है। फरवरी माह में उसने एक फ्लैट का सौदा जगदीश कुमार से किया। उसने १४.५० लाख में रजिस्ट्री कराने के बाद फ्लैट में रहने आ गया। कुछ दिनों बाद उसे बैंक ऑफ महाराष्ट्र से नोटिस मिला कि लोन की किश्त ना चुकाने के कारण उनके फ्लैट की नीलामी की जा रही है। नोटिस मिलते ही उसने जगदीश से बात की। उसने भी कहा कि उन्हें नहीं मालूम उसने तो किन्ही कुलदीप से फ्लैट खरीदा है। मामले की बृजेन्द्र ने पडताल की तो पता चला कि कुलदीप और कुबेर दोनों पार्टनर है। कुबेर ने ही दो करोड से ज्यादा का लोन निकाला साथ ही पता चला कि जगदीश को भी इसकी जानकारी थी। उसने इसी आशय की शिकायत पुलिस से की। पुलिस ने कुलदीप , कुबेर और जगदीश के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
————————————-
रिश्वत मांगने वाले बाबू को तीन साल की सजा
ग्वालियर ।अपर सत्र न्यायाधीश रामजी गुप्ता ने शुक्रवार को वाणिज्य कर विभाग के बाबू महेश पचौखरिया को ३ साल की सजा सुनाते हुए ५ हजार रुपए का अर्थदंड लगाया है।
एडीपीओ अरविंद श्रीवास्तव ने बताया कि शान गन हाउस के संचालक ने वर्ष २०१३ व २०१४ के सेल्स टैक्स के निर्धारण के लिए आवेदन किया था। विभाग के बाबू महेश पचौखरिया ने २० हजार रुपए की रिश्वत मांगी। पहली किस्त ५ हजार रुपए मांगी। शान गन हाउस के संचालक ने लोकायुक्त पुलिस मोतीमहल में इसकी शिकायत की। उसने बताया कि मैं बाबू को रंगे हाथ पकड़वाना चाहता हूं। उसकी शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस ने एक टैप रिकॉर्ड दिया, जिसमें रिश्वत मांगने की आवाज रिकॉर्ड हो गई। रिश्वत मांगने के आरोप में भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा ७ के तहत केस दर्ज किया और कोर्ट में चालान पेश किया। आरोपी ने बचाव में कहा कि उसे झूठा फंसाया गया है, इसलिए मामले दोष मुक्त किया जाए। एडीपीओ श्रीवास्तव ने तर्क दिया कि भ्रष्टाचार के खिलाफ समाज में गुस्सा है। अगर आरोपी को कड़ी सजा नहीं दी जाती है तो गलत संदेश जाएगा। दोनों को सुनने के बाद कोर्ट ने आरोपी महेश पचौखरिया को तीन साल की सजा सुनाते हुए अर्थदंड भी लगाया है।
———————————————
होमगार्ड कमांडेंट की कार से हो रही थी स्मेक की तस्करी
ग्वालियर। गुरुवार की रात पुलिस ने स्मेक तस्करों से जो कार बरामद की थी। वह कार होमगार्ड दतिया के कमांडेंट की निकली। पुलिस इस मामले में जांच कर रही है। वहीं होमगार्ड कमांडेंट रिपुदमन सिंह ठाकुर के ड्राइवर धीरेंद्र सिंह चौहान ने बहोड़ापुर थाना पहुंचकर अमानत में खयानत का मामला दर्ज कराया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार क्राइम ब्रांच ने इस कार में बुधवार को स्मेक की खेप के साथ तस्करों को गिरफ्तार किया। पुलिस अब यह पता कर रही है, कि तस्कर इस कार्य का क्या पहले भी उपयोग कर चुके हैं। इस तस्करी में होमगार्ड के कमांडेंट की क्या भूमिका है। उनकी जानकारी में यह कार स्मैक के तस्करों को दी गई, या ड्राइवर ने यह कार तस्करों को दी। इसकी जांच हो रही है।

LEAVE A REPLY