रामनवमी पर विशेष : हिन्दु धर्म के पर्याय-श्रीराम

0
10

– प्रो.शरद नारायण खरे
विष्णु के अवतार श्रीराम का जीवनकाल एवं पराक्रम महर्षि वाल्मीकि द्वारा रचित संस्कृत महाकाव्य रामायण के रूप में वर्णित हुआ है। गोस्वामी तुलसीदास जी ने भी उनके जीवन पर केन्द्रित भक्तिभावपूर्ण सुप्रसिद्ध महाकाव्य श्री रामचरितमानस जी की रचना की है। इन दोनों के अतिरिक्त अन्य भारतीय भाषाओं में भी रामायण की रचनाएं हुई हैं, जो काफी प्रसिद्ध भी हैं। खास तौर पर उत्तर भारत में श्री राम जी अत्यंत पूज्यनीय हैं और आदर्श पुरुष हैं। इन्हें पुरुषोत्तम शब्द से भी अलंकृत किया जाता है ।
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी, अयोध्या के राजा दशरथ और रानी कौशल्या के सबसे बड़े पुत्र थे। राम की पत्नी का नाम सीता था इनके तीन भाई थे- लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न। हनुमान, श्री रामजी के, सबसे बड़े भक्त माने जाते हैं। श्री राम जी ने लंका के राजा रावण (जिसने अधर्म का पथ अपना लिया था) का वध किया।
बतौर मर्यादा पुरुषोत्तम-
यह यथार्थ है कि श्री राम जी की प्रतिष्ठा मर्यादा पुरुषोत्तम के रूप में है। राम ने मर्यादा के पालन के लिए राज्य, मित्र, माता-पिता, यहाँ तक कि पत्नी का भी साथ छोड़ा। इनका परिवार आदर्श भारतीय परिवार का प्रतिनिधित्व करता है। राम रघुकुल में जन्मे थे, जिसकी परम्परा ” प्रान जाहुँ पर बचनु न जाई” की थी। श्रीराम के पिता दशरथ ने उनकी सौतेली माता कैकेयी को उनकी किन्हीं दो इच्छाओं को पूरा करने का वचन (वर) दिया था। कैकेयी ने दासी मन्थरा के बहकावे में आकर इन वरों के रूप में राजा दशरथ से अपने पुत्र भरत के लिए अयोध्या का राजसिंहासन और राम के लिए चौदह वर्ष का वनवास माँगा। पिता के वचन की रक्षा के लिए राम ने खुशी से चौदह वर्ष का वनवास स्वीकार किया। पत्नी सीता ने आदर्श पत्नी का उदाहरण देते हुए पति के साथ वन जाना उचित समझा। भाई लक्ष्मण ने भी राम के साथ चौदह वर्ष वन में बिताए। भरत ने न्याय के लिए माता का आदेश ठुकराया और बड़े भाई राम के पास वन जाकर उनकी चरणपादुका (खड़ाऊँ) ले आए। फिर इसे ही राज गद्दी पर रख कर राजकाज किया। जब राम वनवासी थे तभी उनकी पत्नी सीता को रावण हरण (चुरा) कर ले गया। जंगल में राम को हनुमान जैसा मित्र और भक्त मिला जिसने राम के सारे कार्य पूरे कराये। राम ने हनुमानजी,सुग्रीव आदि वानर जाति के महापुरुषो की मदद से सीताजी को ढूँढ़ा। समुद्र में पुल बना कर लंका पहुँचे तथा रावण के साथ युद्ध किया। उसे मार कर सीता को वापस लाये थे।
धर्म-संरक्षक के रूप में-
वास्तव में श्रीराम धर्म,न्याय,नीति,सत्य व संस्कृति के संरक्षक थे ।वे दिव्यता से परिपूर्ण थे।उनकी तेेेजस्विता अनुपम थी। वे सदा सत्य के पथ के अनुगामी थे। उन्होंने कभी भी अनीति का साथ नहींं दिया ।अहिल्या का उद्धार,राज्य का परित्याग ,निशाद से मित्रता, केवट-शबरी प्रसंग,सुग्रीव की मदद,विभीषण से मित्रता आदि बिन्दु रामजी की महानता के दृृष्टांंत हैंं। अयोध्या लौटने पर भरत ने राज्य उनको ही सौंप दिया। राम न्यायप्रिय थे। उन्होंने बहुत अच्छा शासन किया इसलिए लोग आज भी अच्छे शासन को रामराज्य की उपमा देते हैं। इनके दो पुत्रों कुश व लव ने इनके राज्यों को सँभाला। वैदिक धर्म के कई त्योहार, जैसे दशहरा, रामनवमी और दीपावली, राम की जीवन-कथा से जुड़े हुए हैैं।
महान पावन पर्व रामनवमी-
रामनवमी श्रीराम के अवतरण का मंगल दिवस है। हकीकत तो यह हैै कि भगवान राम के बिना हिन्दु धर्म व भारतीय संस्कृति की कल्पना भी असंभव है ।
“राम नाम में वेग है,राम नाम में ताप।
राम नाम के तेज को,कौन सकेगा माप।। ”

LEAVE A REPLY