येदियुरप्पा पर कांग्रेस के आरोपों को BJP ने गलत बताया, कहा- ‘खोदा पहाड़ निकली चुहिया’

0
21

नई दिल्ली: कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा पर कांग्रेस की तरफ से लगाए गए आरोपों को बीजेपी ने सिरे से नकार दिया है. बीजेपी ने कहा है कि जिस डायरी के पन्नों के आधार पर आज कांग्रेस ने आरोप लगाए है, उसकी प्रामाणिकता को खुद डी. शिवकुमार आयकर विभाग के छापे के दौरान नकार चुके हैं. बीजेपी ने कहा है कि कांग्रेस के आरोप ‘खोदा पहाड़ निकली चुहिया’ के जैसे हैं. कांग्रेस ने येदियुरप्पा की एक कथित डायरी का हवाला देते हुए उनपर बीजेपी के बड़े नेताओं को 1800 करोड़ रुपए देने के आरोप लगाए थे.
बीजेपी की तरफ से प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘’कांग्रेस की प्रेस कॉन्फ्रेंस का सुबह से इंतजार करते-करते जब दोपहर में चीजें सामने आई तो पता लगा कि खोदा पहाड़ निकली चुहिया, लेकिन यहां तो चुहिया भी नहीं निकली.’’ उन्होंने कहा, ‘’एक मैग्जीन में कोई रिपोर्ट छपती है या छपवाई जाती है और उस पर आरोप शुरू हो जाता है.’’
रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा, ‘’जहां कांग्रेस के कई बड़े नेता जमानत पर रिहा हैं और कई अदालती कार्यवाई झेल रहे हैं, उस कांग्रेस ने अब झूठ का जाल बनाया है.’’ उन्होंने कहा, ‘’क्या कांग्रेस अब झूठ और गलत बयानबाज़ी पर अपनी राजनीति करेगी?’’
येदियुरप्पा ने बीजेपी के बड़े नेताओं को 1800 करोड़ दिए- कांग्रेस
कांग्रेस ने येदियुरप्पा पर आरोप लगाए हैं कि उन्होंने बीजेपी के बड़े नेताओं को 1800 करोड़ दिए हैं. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा, ‘’अब वो तथाकथित डायरी सामने आ गई है. इस डायरी में साफ है कि येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री रहते हुए बीजेपी के बड़े नेताओं को 1800 करोड़ रुपए की घूस देने का जिक्र है. जिसमें उनके हस्ताक्षर भी हैं. डायरी में साफ लिखा है कि येदियुरप्पा ने 2690 करोड़ वसूले हैं और 1800 करोड़ बीजेपी के बड़े नेताओं को पहुंचाए गए.’’कांग्रेस ने कहा, ‘’ये करोड़ों रुपए बीजेपी सेंट्रल कमिटी को दिए गए, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर सभी बड़े नेता बैठते हैं.’’ कांग्रेस ने यह भी आरोप लगाया कि इस डायरी में 250 करोड़ रुपए जजों के लिए भी रखने की बात लिखी गई है. मैग्जीन ने इनकम टैक्स विभाग, सीबीडीटी से लेकर वित्त मंत्री अरूण जेटली, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी जैसे नेताओं से सम्पर्क किया, लेकिन कोई जवाब नहीं आया.’’ कांग्रेस ने दावा किया कि इनकम टैक्स विभाग के पास ये डायरी अगस्त 2017 से मौजूद है. सीबीडीटी इस डायरी की फोरेंसिक ऑडिट करना चाहता था लेकिन इस मामले में जांच नहीं करवाई गई.
कांग्रेस ने मोदी सरकार से कई सवालों के जवाब भी मांगे हैं-
क्या ये आरोप सही है या नहीं?
डायरी की जांच क्यों नहीं करवाई गई?
क्या इनकम टैक्स विभाग ने 1800 करोड़ के लेनदेन की जांच की इजाजत सरकार मांगी और मोदी सरकार ने डायरी की जांच करवाने से इनकार कर दिया?
क्या नरेंद्र मोदी इसकी जांच करवाएंगे? पैसा कहां गया? किसने लूटा?
कांग्रेस ने कहा है कि इस मामले की जांच लोकपाल के पास होनी चाहिए. कांग्रेस से जब सवाल किया गया कि क्या कर्नाटक सरकार इस मामले की जांच करवाएगी? तो पार्टी ने कहा, ‘’कर्नाटक सरकार इस मामले का संज्ञान ले सकती है. लेकिन ये केवल कर्नाटक तक का मामला नहीं है. इस डायरी में पीएम मोदी से लेकर बीजेपी सेंट्रल कमिटी के नेताओं के नाम हैं. इसलिए इस मामले की जांच होनी चाहिए.’’ कांग्रेस ने कहा, ‘’हम कीचड़ उछालने नहीं आए, तथ्य सामने रखने आए हैं.’’

LEAVE A REPLY