होलाष्‍टक 14 मार्च से, जानिए क्‍यों होता है अशुभ

0
10

ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
होलिका दहन इस साल 21 मार्च को है और होली से 8 दिन पहले होलाष्‍टक लग जाते हैं। होलाष्‍टक लगते ही हिंदू धर्म में सभी शुभ कार्य वर्जित माना जाता है क्योंकि इसे अशुभ समय माना जाता है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार फाल्गुन शुक्लपक्ष अष्टमी से फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा तक की अवधि को होलाष्टक कहा जाता है। इस बार होलाष्‍टक 14 मार्च से लग रहे हैं। 14 मार्च से लेकर 21 मार्च तक होलाष्‍टक रहेंगे और इस दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाएगा। इस दिन से होलिका दहन के लिए लकड़ियां एकत्रित करने का काम आरंभ होगा। इस साल होलाष्टक के साथ मीन संक्रांति भी है इसलिए इस दिन से खरमास भी लग रहा है।
15 मार्च से माना जाएगा खरमास
पंचांग की गणना के अनुसार 15 मार्च की सूर्यदय से पहले सूर्य मीन राशि में आ रहे हैं इसलिए ज्योतिषीय आधार पर यह संक्रांति 14 मार्च की होगी लेकिन इसका पुण्यकाल 15 मार्च को माना जाएगा और इसीदिन से खरमास की गिनती होगी। मीन राशि में सूर्य 14 अप्रैल तक रहेंगे। खरमास शुरू होने की वजह से इस दौरान कोई भी शुभ कार्य, विवाह, मुंडन या फिर गृह प्रवेश जैसा शुभ संस्‍कार नहीं होंगे।

LEAVE A REPLY